मेरा भारत महान | Mera Bharat Mahan Eassy In Hindi

मित्रों, मैं आपको Hindi Essay लिखने से पहले कुछ बातें बताना चाहता हूं जब मैंने यह Blog शुरू किया था तो मैंने यह बिल्कुल भी नहीं सोचा था कि मैं इस पर Blog पर Hindi Essay भी लिखूंगा। लेकिन मैंने बहुत से ऐसे विद्यार्थी देखे जिन्हें Hindi Essay पढ़ना पसंद है।
इसलिए अब हम इस Blog के माध्यम से Hindi Essay भी आप तक पहुंचाएंगे!
 

मेरा भारत महान | Mera Bharat Mahan

दुनिया में भारत एक ऐसा देश है, जिसने बदलते समय के साथ बहुत ज्यादा विकास किया है भारत पूरे विश्व में जाना जाता है भारत का हर एक नागरिक को अपने भारतीय होने पर गर्व है हमारे देश ने सारे विश्व को प्रभावित किया है चलिए भारत के गौरवशाली इतिहास के बारे में विस्तार से जानते हैं।

गौरवशाली इतिहास: श्रेष्ठ सभ्यता एवं संस्कृति:

भारत का इतिहास प्रारंभ से ही गौरवशाली रहा है हमारा देश विश्वगुरु रहा है संसार के इतिहास में ज्ञान और संस्कृति का आदिग्रंथ ऋग्वेद यहीं से लिखा गया है अनेक सभ्यताएं और संस्कृति यहां जन्मी और मिट गई परंतु हमारी भारतीय संस्कृति जीवित है!
इसका कारण है, हमारे उच्च कोटि के जीवन मूल्य आत्मा परमात्मा के रहस्य को सुलझाने वाले ऋषि मुनि यहां उत्पन्न हुए हैं तो समाजशास्त्री और विज्ञानी भी यहां जन्मे हैं।
 
 “वसुधैव कुटुंबकम” और “सर्वे भवन्तु सुखिन:” हमारी संस्कृति के गौरवशाली इतिहास के सूत्र हैं वेदों की रचना कई हजार वर्ष पूर्व हुई थी इसी से हमारी श्रेष्ठ सभ्यता और संस्कृति का अनुमान लगाया जा सकता है।
 
यहां पुरुषों के समान ही स्त्रियों ने भी वैदुष्य प्राप्त किया है जीवन के सत्य की खोज के साथ-साथ ललित कला, साहित्य संगीत, नृत्य कला, मूर्तिकला, चित्रकला, स्थापत्य आदि में भी भारतीय अग्रणी रहे हैं।
 
 योग, साधना, आयुर्वेद, शल्य चिकित्सा के क्षेत्र में भी भारतीयों के बराबर कोई नहीं।
आज संसार फिर हमारी योगासन और आयुर्वेद पद्धति तथा आध्यात्मिकता की ओर देख रहा है।
 
 

विश्व का सबसे बड़ा लोकतांत्रिक देश:

भारत विश्व का सबसे बड़ा लोकतंत्र है यहां की आबादी 1 अरब से ऊपर है इतनी बड़ी जनसंख्या और विशाल और विविध भौगोलिक क्षेत्र में चुनाव का संपन्न कराना वास्तव में चुनौतीपूर्ण है फिर भी हमारे देश में ऐसी व्यवस्था को अपनाया हुआ है!
प्राचीन समय में भी भारत में लोकतंत्र था शायद इसलिए यह यहां सफल रहा है।
 

प्राकृतिक सौंदर्य एवं भौगोलिक स्थिति:

हमारा देश भारत अपने प्राकृतिक सौंदर्य की विविधता के कारण विश्व के आकर्षण का केंद्र रहा है भारतवासी अपनी जन्मभूमि को मां का दर्जा देते हैं यही मां गंगा-यमुना जैसी पवित्र नदियों का जल हमें पिलाती है दक्षिण में इसके पैरों में हिंद महासागर श्राद्ध होता रहता है!
 
 यहां बर्फीली ऊंची-ऊंची पर्वत मालाएं हैं तो घने वन भी हैं, वन्यजीवों की दुर्लभ प्रजातियां यहां निवास करती हैं संसार भर में केवल यहां ही छह ऋतु होती हैं, यहां के प्राकृतिक सौंदर्य की विविधता भी अनुपम है!
 
 कहीं सागर की उत्ताल तरंगें हैं तो कहीं रेत का ढेर कहीं संगमरमर की चट्टानें हैं तो कहीं खनिज के भंडार अपनी विपुल प्राकृतिक संपदा के कारण इस पर लोभी शासकों की बुरी नज़र हमेशा से रही है!
 
इसके उत्तर में स्थित पर्वतराज हिमालय का मुकुट इसके मस्तक पर सोभित है नदियां कंठहार है पश्चिम से पूर्व तक लहलहाती खेतियाँ इसका आंचल है।
 

भारतीय संस्कृति और उच्च कोटि के जीवन मूल्य:

भारत के अपने उच्च कोटि के जीवन मूल्यों के कारण ही आज हमारी संस्कृति की गौरवशाली परंपरा जीवित है!
 
 हमारा देश विश्व का ज्ञान गुरु रहा है उसने सारे संसार को सिखाया है वसुधैव कुटुंबकम अर्थात सारा संसार तुम्हारा परिवार है हमारे विषयों की वाणी ने जन-जन के हित की चिंता की है वेदों में कहा गया है– 
 
सर्वे भवन्तु सुखिन: सर्व संतु निरामया:।
 सर्वे भद्राणि पश्यंतु मां कश्चित् दु:खभाग भवेत्।।
 
अर्थात संसार में सब सुखी और निरोगी हो।
 सब एक दूसरे का गुणगान करें। किसी के भी हृदय में आंशिक दुख ना हो।
 इसी प्रकार स्त्रियों को आदर देते हुए कहा गया है- 
यत्र नार्यस्तु पूज्यंते रमंते तत्र देवता:।
 
 आधुनिक विश्व में जबकि दुनिया के विभिन्न देशों में महिलाएं केवल उपभोग की वस्तु है लेकिन हमारे भारत में अब भी स्त्रियों की दशा कुछ बेहतर है वह राजनीति में बढ़ चढ़ कर हिस्सा ले रही हैं अंतरिक्ष की यात्रा कर रही हैं। भारत में ईश्वर के संबंध में कहा गया है-
 
‘एक सद विप्रा: बहुधा वदंति’ अर्थात सत्य/सत् एक ही है, उसे महानुभाव विविध रूपों में कहते हैं भारत की इसी उदारता और सामाजिकता की भावना से संसार प्रभावित है।
 

हमारे भारत की अंतरराष्ट्रीय नीतियां:

हमारा भारत शुरू से ही अत्यधिक शक्तिशाली देश रहा है हमारा भारत किसी भी अन्य देश के दबाव में कभी भी नहीं आया और ना किसी से डरा।
 भारत शांतिपूर्ण सह-अस्तित्व में विश्वास करता है उसका नीति वाक्य है – जियो और जीने दो।
 
इन्हें भी पढ़े:
 
 भारत ने कभी भी किसी को डराने की कोशिश नहीं की और ना भारत कभी ऐसा काम करेगा क्योंकि भारत एक शांतिपूर्ण देश है भारत ने अंतरराष्ट्रीय स्तर पर गुट-निरपेक्ष नीति अपनाई है अपने स्वार्थ के लिए वह किसी के साथ हाथ मिला कर फिर उसे नुकसान नहीं पहुंचाएगा और यदि कोई देश ऐसा करता है तो वह उसका साथ नहीं देगा।
 
 हमारा देश भारत, संसार के सभी देशों में शांति चाहता है वह सबका हित एवं विकास चाहता है लेकिन मैं सच कहूं तो Mera Bharat Mahan कहना मुझे बड़ा अच्छा लगता है और यह सही भी है Mera Bharat Mahan है बस वर्तमान में भारत अपनी कुछ कमियों को दूर कर ले तो हम और अधिक शक्ति के साथ और बड़े गर्व से कह सकेंगे- मेरा भारत महान।