क्या है Global  Warming, जानिये हमारी पृथ्वी पर इसका कितना बुरा प्रभाव पद रहा है 

अगर हम Global Warming को आसान भाषा में समझे तो पृथ्वी के तापमान में हो रही वृद्धि और इसके कारण मौसम में होने वाला परिवर्तन Global Warming का कारण है।

ग्रीन हाउस (Green House) गैसों के कारण पृथ्वी के तापमान में होने वाली वृद्धि को Global Warming कहा जाता है।

 ग्रीन हाउस गैसों में मुख्य रूप से कार्बन डाइऑक्साइड, मिथेन, ओजोन, नाइट्रस ऑक्साइड क्लोरो फ्लोरो कार्बन आदि गैसें शामिल हैं।

Global Warming को 21 वी शताब्दी का सबसे बड़ा खतरा माना गया है, यह एक ऐसा खतरा है जो तीसरा विश्वयुद्ध या फिर किसी छुद्र ग्रह एस्टेरॉइड के पृथ्वी से टकराने के बराबर है।

वैज्ञानिकों का मानना है कि जैसे-जैसे Green House गैसों में वृद्धि होगी ग्रीन हाउस गैसों द्वारा बनाया गया आवरण और भी मोटा होता जाएगा,

जिस कारण यह और अधिक सूर्य की किरणों को रोकने लगेगा। फिर ग्रीन हाउस गैसों के द्वारा हमें Global Warming के ऐसे दुष्प्रभाव देखने को मिलेंगे जिसके बारे में हम कल्पना भी नहीं कर सकते।

पिछले कुछ वर्षों से पृथ्वी पर कार्बन डाइऑक्साइड की मात्रा में काफी वृद्धि हुई है और अभी भी यह लगातार बढ़ते ही जा रही है

इसलिए कार्बन डाइऑक्साइड को तापमान में होने वाली वृद्धि का मुख्य कारण माना जा रहा है।

पूरा पढ़ें