Uttrakhand General Knowledge in Hindi

इस Post में आज हम Uttrakhand General Knowledge in Hindi से जुड़े कुछ ऐसे Notes और MCQ के बारे में जानेंगे जो Uttrakhand Competitive Exam की तैयारी के लिए काफी महत्वपूर्ण हैं।

Uttrakhand के बारे में जानने के लिए हम उसके Basic से शुरू करेंगे और Uttrakhand Important Topics को Cover करेंगे।

उत्तराखंड का सामान्य परिचय :

उत्तराखंड राज्य का गठन 9 नवंबर 2000 को हुआ उत्तराखंड की राजधानी देहरादून है। उत्तराखंड को पहले उत्तराँचल के नाम से जाना जाता था लेकिन सन् 2007 में “उत्तराँचल” का नाम बदलकर “उत्तराखंड” रख दिया गया। उत्तराखंड को “देवभूमि” के नाम से भी जाना जाता है जहां कईं धार्मिक स्थल स्थित हैं।

उत्तराखंड भारत का 27वां राज्य है क्षेत्रफल की दृष्टि से उत्तराखंड का सबसे बड़ा जिला चमोली (क्षेत्रफल 8,030 वर्ग किमी) है। जनसंख्या की दृष्टि से उत्तराखंड का सबसे बड़ा जिला हरिद्वार (कुल जनसँख्या 18,90,422) है।

उत्तराखंड हिमालयी क्षेत्र का 10 वां राज्य है। वर्तमान में उत्तराखंड को देवभूमि देवों की भूमि के नाम से भी जाना जाता हैं, क्योंकि यहाँ पर हिन्दू देवी – देवताओं के कई सारे मंदिर स्थित हैं।

उत्तराखंड में स्थित मंडल :

मंडल मुख्यालय स्थापना वर्ष सम्मिलित जिले
कुमाऊं नैनीताल 1854ऊधमसिंह नगर, नैनीताल, पिथौरागढ़, चंपावत
गढ़वाल पौड़ी1969देहरादून, हरिद्वार, टिहरी गढ़वाल, उत्तरकाशी, पौड़ी गढ़वाल
गैरसैंणगैरसैंण2021रुद्रप्रयाग, चमोली, अल्मोड़ा और बागेश्वर

गैरसैंण मंडल को हाल ही में उत्तराखंड के वर्तमान मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने 4 मार्च 2021 को उत्तराखंड का तीसरा मंडल बनाने की घोषणा की।

उत्तराखंड राज्य के जिले :

जिले स्थापना वर्ष मुख्यालय
देहरादून1817देहरादून
पौड़ी1840पौड़ी
अल्मोड़ा1891अल्मोड़ा
नैनीताल1891नैनीताल
टिहरी1949नई टिहरी
पिथौरागढ़1960पिथौरागढ़
उत्तरकाशी 1960उत्तरकाशी
चमोली1960गोपेश्वर
हरिद्वार1988हरिद्वार
ऊधमसिंह नगर1995रुद्रपुर
रुद्रप्रयाग1997रुद्रप्रयाग
चंपावत1997चंपावत
बागेश्वर1997बागेश्वर

उत्तराखंड की महत्वपूर्ण जानकरियां :

  • उत्तरांचल राज्य विधेयक लोकसभा में पारित : 1 अगस्त 2000 को
  • उत्तरांचल राज्य विधेयक राज्यसभा में पारित : 10 अगस्त 2000 को
  • उत्तरांचल राज्य विधेयक राष्ट्रपति के. आर. नारायण द्वारा स्वीकृत : अगस्त 2000 को
  • उत्तरांचल राज्य का गठन : 9 नवंबर 2000 को
  • भारतीय गणतंत्र का राज्य : 27 वां
  • उत्तरांचल का नाम उत्तराखंड पड़ा : 1 जनवरी 2007 को
  • उत्तराखंड की राजधानी : देहरादून
  • उत्तराखंड की राजकीय भाषा : 1. हिंदी (जनवरी 2010 से 2. संस्कृत)

उत्तराखंड के राजकीय :

  • उत्तराखंड का राजकीय पशु : कस्तूरी मृग
  • उत्तराखंड का राजकीय पक्षी : मोनाल
  • उत्तराखंड का राजकीय वृक्ष : बुरांस
  • उत्तराखंड का राजकीय पुष्प : ब्रह्मा कमल
  • राज्य खेल (2011 में घोषित) : फुटबॉल
  • राज्य वाद्य (2015 में घोषित) : ढोल
  • राज्य तितली (2016 में घोषित) : कॉमन पीकॉक

उत्तराखंड में नियुक्तियां :

  • प्रथम राज्यपाल : सुरजीत सिंह बरनाला (9 नवंबर 2000 से 8 जनवरी 2003 तक)
  • द्वितीय राज्यपाल : सुदर्शन अग्रवाल (8 जनवरी 2003 से 29 अक्टूबर 2007 तक)
  • तृतीय राज्यपाल : बी.एल. जोशी (29 अक्टूबर 2007 से 6 अगस्त 2009 तक)
  • चतुर्थ राज्यपाल : माग्रेट अल्वा (6 अगस्त 2009 से 15 मई 2012 तक)
  • पंचम राज्यपाल : डॉ अजीज कुरैशी (15 मई 2012 से 8 जनवरी 2015 तक)
  • षष्टम राज्यपाल : डॉक्टर कृष्णकांत पाल (8 जनवरी 2015 से 26 अगस्त 2018 तक)
  • सप्तम राज्यपाल : बेबी रानी मौर्य (26 अगस्त 2018 से
  • अष्ठम राज्यपाल : लेफ्टिनेंट जनरल (सेवानिवृत्त) गुरमीत सिंह (09 सितम्बर 2021 अब तक)

इन्हे भी जाने :

उत्तराखंड की नदियां :

  • राज्य की प्रमुख नदियां : भागीरथी, गंगा, अलकनंदा, काली, यमुना, टोंस, भिलंगना, मंदाकिनी, रामगंगा, सरयू, नयार आदि।
  • राज्य की सर्वाधिक लंबी 4 नदियां : काली (252 किलोमीटर), भागीरथी (205 किलोमीटर), अलकनंदा (195 किलोमीटर), प. रामगंगा।
  • राज्य में सर्वाधिक जल प्रवाह वाली नदी : अलकनंदा
  • गंगा को राष्ट्रीय नदी घोषित किया गया : 4 नवंबर 2008 को
  • सर्वाधिक प्रवाह पथ वाली नदी : काली नदी
  • उत्तराखंड व हिमाचल प्रदेश का बॉर्डर बनाने वाली नदियां हैं : टोंस नदी और यमुना नदी
  • राज्य में किस नदी घाटी का क्षेत्रफल सर्वाधिक है : काली नदी (शारदा का)
  • भिलंगना नदी कहां से निकलती है : खतलिंग ग्लेशियर (टिहरी)

नदी संगम के पास स्थित नगर एवं मंदिर :

  • अलकनंदा व सरस्वती नदी संगम पर : केशव प्रयाग (चमोली के माणा गांव के पास)
  • अलकनंदा व ऋषिगंगा संगम पर : बद्रीनाथ (चमोली)
  • अलकनंदा व विष्णुगंगा संगम पर : विष्णु प्रयाग (चमोली)
  • अलकनंदा नंदाकिनी संगम पर : नंद प्रयाग (चमोली)
  • अलकनंदा व पिंडर संगम पर : कर्णप्रयाग (चमोली)
  • अलकनंदा व मंदाकिनी संगम पर : रुद्र प्रयाग (रुद्रप्रयाग)
  • अलकनंदा (वहु) व भागीरथी (सास) संगम पर : देवप्रयाग (टिहरी)
  • भागीरथी व आकाश गंगा संगम : गोमुख (उत्तरकाशी)
  • भागीरथी व केदार गंगा संगम पर : गंगोत्री (उत्तरकाशी)
  • भागीरथी और जलन्ध्री नदी संगम पर : हर्षिल (उत्तरकाशी)
  • भागीरथी और खीर गंगा नदी संगम पर : धराली के निकट (उत्तरकाशी)
  • भागीरथी और हत्याहारिणी नदी संगम पर : मुखवा के निकट (उत्तरकाशी)
  • भागीरथी व भिलंगना संगम पर : गणेश प्रयाग (पुराना टिहरी)
  • गंगावा चंद्रभागा संगम पर : ऋषिकेश (देहरादून)
  • मंदाकिनी व सरस्वती तथा अदृश्य मधुगंगा, छिरगंगा, स्वर्णगौरी संगम पर : केदारनाथ (रुद्रप्रयाग)
  • मंदाकिनी व धूलगाड नदी संगम पर : अगस्त्यमुनि (रुद्रप्रयाग)
  • गोरी व काली (शारदा) संगम पर : जौलजीवी (पिथौरागढ़)
  • सरयू, गोमती व अदृश्य सरस्वती नदी संगम पर : बागेश्वर
  • गोमती व गरुणगंगा संगम पर : बैजनाथ (बागेश्वर)
  • काली नदी व कटिपानी गाड़ नदी संगम पर : तालेश्वर (पिथौरागढ़)
  • सरयू व पू. रामगंगा संगम पर : रामेश्वर (पिथौरागढ़)
  • लधिया व राटिया नदी संगम पर : मीठा-रीठा साहिब (चंपावत)
  • कोसी व गरुड़ गंगा संगम पर : कौसानी (बागेश्वर)
  • यमुना व रिखवाड संगम पर : लाखामंडल (देहरादून)
  • यमुना व टोंस संगम पर : कालसी (देहरादून)

Leave a Comment