बीमा क्या है | What is Insurance

बीमा, इसे सामान्य शब्दों में Insurance भी कहा जाता है और बीमा का अंग्रेजी अनुवाद भी Insurance ही है लगभग सभी लोग अपने कार, बाइक, घर और अपने जानवरों का भी Insurance कराते हैं।

हम में से कई लोगों को Insurance के बारे में संपूर्ण जानकारी नहीं है इसलिए आज हम इसी विषय पर चर्चा करने वाले हैं, और जानने वाले हैं की insurance क्या है? Insurance कितने प्रकार के होते हैं? Insurance के क्या फायदे और नुकसान हैं? Insurance in Hindi और भी बहुत कुछ तो चलिए इसके बारे में विस्तार से जानते हैं।

बीमा क्या है | What is insurance in Hindi

अगर हम आसान भाषा में समझे तो insurance यानी बीमा का मतलब होता है किसी कंपनी के द्वारा आपके हुए नुकसान, एक्सीडेंट या मृत्यु होने पर आपको या आपके परिवार को सहायता देने की गारंटी। यानी Insurance का सीधा मतलब होता है आपके किसी भी नुकसान की भरपाई करना।

मान लीजिए आपने अपना Life insurance (जीवन बीमा) करवाया है और आपके साथ कोई दुर्घटना हो जाती है तो जीवन बीमा कंपनी आपके हुए नुकसान की भरपाई करती है। यदि बीमित व्यक्ति की मृत्यु हो जाती है तो उसके परिवार को जीवन बीमा कंपनी द्वारा कुछ रकम दी जाती हैं यह आपकी Insurance Policy (पॉलिसी) पर निर्भर करता है जितने ज्यादा रुपए की आपकी Insurance Policy होती है उतना ही आपको बीमा कंपनी के द्वारा कवर मिलता है।

आजकल लगभग हर एक चीज का Insurance होने लगा है हर एक चीज की अलग Policy होती है जिसमें आपको बताया जाता है कि आपके नुकसान होने पर आपको कितनी भरपाई दी जाएगी, यह सब Policy के हिसाब से बताया जाता है।

सभी कंपनी की Policy अलग-अलग होती है। अगर आप अलग-अलग कंपनी की Policy को Check करना चाहते हैं तो आप policybazar.com पर जाकर किसी भी कंपनी की Insurance Policy को चेक कर सकते हैं। और दूसरी कंपनी के साथ उनकी Policy को Compare भी कर सकते हैं।

बीमा कितने प्रकार के होते हैं :

वैसे तो Insurance अनेक प्रकार के होते हैं लेकिन हम आपको कुछ मुख्य Insurance Policy केेे बारे में बताएंगे, सभी के Plan और Policy भी अलग अलग होती है।

1. जीवन बीमा (Life Insurance)

सबसे पहला और मुख्य बीमा है, जीवन बीमा इसे हम अंग्रेजी में Life Insurance भी कहते हैं।
जो भी व्यक्ति Life Insurance यानी जीवन बीमा करवाता है उसकी मृत्यु होने के बाद उसके परिवार या उसने जिसे भी Nominee चुनाहै उसको Payment Rules के अनुसार उसकी Policy की पेमेंट दे दी जाती है।

इस तरह के Insurance लोग अपने परिवार के लिए ही कराते हैं अगर उन्हें कुछ हो जाता है तो उनके परिवार को कुछ रुपए मिल जाए जिससे वह अपना जीवन आराम से बिता सकें।

Life Insurance देखा जाए तो कई मामलों में काफी बेहतर भी है क्योंकि कोई नहीं जानता है कि उसके साथ कब क्या हो जाए।
हालांकि इस इंश्योरेंस से उस व्यक्ति को फायदा तो नहीं होगा लेकिन उसके परिवार को काफी हद तक insurance का लाभ मिल सकता है।

2. स्वास्थ्य बीमा (Health Insurance)

स्वास्थ्य बीमा में एक सीमित रकम जमा की जाती है, और आने वाले समय में अगर उस व्यक्ति को जिसने Health Insurance कराया है उसे कोई बीमारी हो जाती है तो उसका पूरा खर्चा बीमा कंपनी खुद उठाती है, एक तरह से देखा जाए तो यह पॉलिसी काफी जरूरी है क्योंकि हर एक इंसान का स्वास्थ्य कभी ना कभी खराब होता ही है, और इस तरह की पॉलिसी में कंपनी हर साल नियमित चेकअप का भी खर्चा देती है।

health insurance

 आजकल खाने पीने की वजह से हेल्थ खराब हो जाना एक आम बात है और अगर आपके पास Health Insurance policy है तो आप मेडिकल के खर्चे से बच सकते हैं। मेडिकल में दवाइयों का खर्चा और यदि आप का ऑपरेशन होता है तो उसका भी खर्चा शामिल होता है।

3. वाहन बीमा (Vehicle Insurance)

आज के समय में लगभग हर किसी के पास मोटरसाइकिल, कार या अन्य कोई वाहन उपलब्ध है इस इंश्योरेंस का लाभ यह है कि यदि आपकी मोटरसाइकिल कार या कोई अन्य वाहन चोरी हो जाता है या कोई दुर्घटना हो जाती है और आपने अपने उस मोटरसाइकिल या वाहन का इंश्योरेंस करा रखा है तो आपको बीमा कंपनी गाड़ी को ठीक कराने के लिए या दुर्घटना के खर्चे को पूरा करने के लिए आपको कुछ रकम देती है।

vehicle insurance

वाहन बीमा या Auto Insurance दो प्रकार के होते हैं–

Third party Insurance

Full party Insurance

Third Party Insurance: कुछ गाड़ियों के लिए थर्ड पार्टी बीमा भी किया जाता है जिसमें गाड़ी चलाने वाले ड्राइवर या फिर पैदल चलने वाले लोगों को इस बीमा का लाभ मिलता है।

इसे आसान भाषा में समझे तो थर्ड पार्टी इंश्योरेंस मतलब आपके कार या बाइक से अगर किसी तीसरे व्यक्ति का एक्सीडेंट होता है या उसे कोई हानि पहुंचती है तो कंपनी उसको भुगतान करती है।

Full Party Insurance: इसके अंतर्गत कार ड्राइवर या बाइक ड्राइवर सभी को कवर किया जाता है।
यह बीमा भी बहुत जरूरी है क्योंकि हम बहुत मेहनत करके कोई गाड़ी खरीदते हैं और दुर्भाग्यवश किसी दुर्घटना में हमारी गाड़ी में खराबी आ जाती हैं तो उन्हें ठीक कराने के लिए पूरा कवर इंश्योरेंस कंपनी देती है।

4. गृह बीमा (Home Insurance)

Home Insurance में आपके घर की बिल्डिंग और आपके सामान के अनुसार पॉलिसी बनाई जाती है, इस इंश्योरेंस के अंतर्गत बीमा कंपनी घर और सामान खराब या किसी तरह के एक्सीडेंट होने पर आपको भुगतान करती है यदि आपके घर में आग लग जाती है या कोई अन्य दुर्घटना हो जाती है या आपका सामान चोरी हो जाता है, तो इस स्थिति में कंपनी आपको भुगतान करती है।

5.यात्रा बीमा (Travel Insurance)

इस इंश्योरेंस का फायदा यह है कि यदि आप ज्यादा यात्रा करते हैं या आप अपने परिवार के साथ कहीं ना कहीं आते जाते रहते हैं, तो ऐसी स्थिति में Travel Insurance कराना आपके लिए बेहद जरूरी है अगर आप कहीं सफर पर जाते हैं और आपके साथ कोई दुर्घटना हो जाती है, तो उसकी भरपाई insurance कंपनी स्वयं करती है।

6. फसल बीमा (Crop Insurance)

फसल बीमा मुख्य रूप से किसानों के लिए बनाया गया है और मेरे हिसाब से यह बीमा सभी किसानों को हर फसल में जरूर कराना चाहिए क्योंकि मौसम का कभी कोई भरोसा नहीं होता है कि कब आप की फसल पर कोई संकट आ जाए या आप की फसल खराब हो जाए इस स्थिति में किसानों के पास निराश होने के अलावा और कोई रास्ता नहीं होता है।

Crop insurance

अगर आप फसल बीमा करा लेते हैं तो आप बिना चिंता के अपनी खेती आराम से कर सकते हैं यदि बारिश तूफान या किसी अन्य कारण से आप की फसल खराब हो जाती है तो बीमा कंपनी आप के नुकसान की भरपाई करती है।

7.  पालतू बीमा (Pet Insurance)

यह बीमा आप अपने घर के किसी भी पालतू जानवर के लिए करा सकते हैं यदि आप अपने घर में गाय या भैंस पालते हैं तो आपको उनका बीमा अवश्य ही कराना चाहिए यदि आपके घर में कोई कुत्ता है तो आप उसका भी बीमा करवा सकते हैं।

बीमा कराने के फायदे | Benefits Of Insurance

लोग बीमा इसलिए ही करवाते हैं कि यदि आने वाले समय में उनका कोई नुकसान हो जाए तो बीमा कंपनी उनके नुकसान की भरपाई कर सके और पीड़ित व्यक्ति को बुरे वक्त में कुछ रकम मिल सके।
जिस चीज का भी Insurance कराया जाता है अगर वह चोरी हो जाता है या किसी कारणवश खराब हो जाता है तो उस स्थिति में इंश्योरेंस कंपनी उसकी भरपाई करती है।

ठीक है इसी प्रकार यदि आप लाइफ इंश्योरेंस करवाते हैं और आने वाले समय में आपके साथ कोई दुर्घटना हो जाती है या आप की मृत्यु हो जाती है तो यह आपके लिए तो नहीं लेकिन आपके परिवार के लिए काफी फायदेमंद साबित हो सकता है क्योंकि बीमा कंपनी आपके परिवार को पॉलिसी के हिसाब से रकम देती है जिसे आपके परिवार को कुछ सहायता मिल सके।

इसी प्रकार यदि आपके पास कार या कोई बाइक है और वह किसी कारणवश खराब हो जाती है या उससे कोई दुर्घटना हो जाती है तो इस स्थिति में उसका खर्च बीमा कंपनी उठाती है।

इंश्योरेंस का एक फायदा यह भी होता है कि यदि आप पॉलिसी के लिए कोई लोन लेते हैं तो वह इनकम टैक्स फ्री होता है।

बीमा कराने के नुकसान | Insurance losses

आपको पता ही होगा अगर किसी चीज के फायदे होते हैं तो उसके नुकसान भी होते हैं ठीक उसी प्रकार बीमा कराने के भी अनेक नुकसान है।

इसका पहला नुकसान तो यह है कि आपको अपनी पॉलिसी की तय समय सीमा तक पैसे जमा करने पड़ते हैं तभी आप अपना भुगतान प्राप्त कर सकते हैं।

और इसका दूसरा नुकसान यह है कि यदि आप पॉलिसी को वापस करना चाहते हैं तो आपको पूरे पैसे नहीं दिए जाएंगे जितने आप ने दिए हैं।
और इसका तीसरा नुकसान यह है कि आपने जीवन बीमा कराया है और आने वाले समय में कभी आपका ख्याल या मूड बदल जाता है और आप इसे वापस करना चाहते हैं तो आपको पैसे वापस नहीं दिए जाएंगे।

इसका चौथा नुकसान यह है कि यदि आपने Medical या health insurance कराया है तो आपको उसे हर साल Renewal कराना पड़ेगा।
अगर आपने 1 साल के लिए Health Insurance कराया है और आपको उस साल कोई बीमारी नहीं है तो इस स्थिति में आपको कोई भुगतान नहीं मिलेगा और आपने जो भी पैसा खर्च करा है या जमा करे है वह सब व्यर्थ जाएगा।

फिर आपको अगले साल दोबारा से मेडिकल या हेल्थ इंश्योरेंस लेना पड़ेगा क्योंकि जो आपने इससे पहले Health Insurance करवा रखा था वह expire हो चुका होगा।

 अगर मैं अपनी राय दूं तो 30 वर्ष की उम्र में Term Insurance कराना उचित होगा।
क्योंकि इस उम्र में प्रत्येक व्यक्ति एक जिम्मेदार वयस्क बन जाता है।
30 वर्ष की उम्र में लगभग हर एक व्यक्ति के पास एक अच्छी नौकरी होती है और उसकी आर्थिक स्थिति भी ठीक-ठाक हो चुकी होती है।

टर्म इंश्योरेंस क्या है | What is Term Insurance

हमने इंश्योरेंस से संबंधित लगभग सभी विषयों के बारे में जान लिया है कई लोगों के मन में यह सवाल होते हैं कि Term Insurance क्या होता है ? तो चलिए हम इसके बारे में भी जानते हैं, Term Insurance एक प्रकार की जीवन बीमा पॉलिसी होती है इसकी एक सीमित अवधि होती है और इसी सीमित अवधि में इसके लिए एक निश्चित भुगतान दर तय की जाती है।

जिस व्यक्ति ने यह बीमा करा रखा है, पॉलिसी के बीच में अगर उस व्यक्ति की मृत्यु हो जाती है तो उसके परिवार को या उसने जिसे भी Nominee चुना है उसकी पॉलिसी में बनने वाली पूरी रकम बीमा कंपनी द्वारा उस व्यक्ति को दे दी जाती है।

Term insurance कब लेना चाहिए :

जब आप 18 वर्ष की उम्र के हो जाते हैं तो आप अपना Term Insurance करवा सकते हैं 65 वर्ष की उम्र के बाद आप अपना Term Insurance नहीं करवा सकते।

भारत में Term Insurance कंपनियां कौन-कौन सी हैं :

भारत में अनेक प्रकार की Term Insurance कंपनियां हैं, जैसे-
LIC
MAX
BIRLA SON LIFE
SBI
HDFC LIFE
BHARTI AXA
IDBI
ICICI
BAJAJ
AVIVA



 

Leave a Comment